Blog
Home > Blogs > पेट से संबंधित बीमारियों को दूर करने के लिए आज़माएं ये घरेलू नुस्‍खे-

पेट से संबंधित बीमारियों को दूर करने के लिए आज़माएं ये घरेलू नुस्‍खे-

पेट से संबंधित बीमारियों को दूर करने के लिए आज़माएं ये घरेलू नुस्‍खे-

May 21, 2019

मनुष्‍य के शरीर में पाचन तंत्र सबसे महत्‍वपूर्ण प्रणालियों में से एक होता है। भोजन को पचाने और शरीर को जरूरी पोषण देने का काम पाचन तंत्र द्वारा ही किया जाता है। कई बार गरिष्‍ठ भोजन या खानपान से संबंधित गलत आदतों की वजह से पाचन तंत्र को खानान पचाने में दिक्‍कत आने लगती हैं एवं इसके परिणामस्‍वरूप पेट से जुड़ी परेशानियां होने लगती हैं।


कुछ भी गलत खाने या पाचन में गड़बड़ी होने पर पेट कई तरह से आपको संकेत देता है और इन संकेतों को ही पेट से जुड़ी समस्‍याओं के रूप में जाना जाता है। माना जाता है कि पेट के गड़बड़ होने पर पूरी शरीर की क्रियाएं प्रभावित होती हैं और ये अनेक रोगों का कारण भी बन सकता है।


आज इस लेख के जरिए हम आपको पेट से जुड़ी परेशानियों और उनके घरेलू उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आप बिना किसी साइड इफेक्‍ट के अपनी पाचन शक्‍ति को मजबूत और पेट से संबंधित प्रॉब्‍लम्‍स को दूर करना चाहते हैं तो इन घरेलू नुस्‍खों को जरूर अपनाएं।


एसिडिटी


वसायुक्‍त या मसालेदार भोजन करने पर पेट में अधिक मात्रा में एसिड बनने लगता है जिस कारण एसिडिटी की समस्‍या पैदा होती है। कभी-कभी लंबे समय तक कुछ न खाने की वजह से भी पेट में गैस बनने लगती है।
•    सुबह उठने के तुरंत बाद पानी पीएं।
•    अपने नियमित भोजन में केला, पपीता, तरबूज और खीरा शामिल करें।
•    एसिडिटी से राहत पाने के लिए नारियल पानी भी पी सकते हैं।
•    अदरक से पाचन शक्‍ति में सुधार लाया जा सकता है।
•    कार्बोहाइड्रेट युक्‍त चीजें जैसे कि चावल आदि खाएं, इससे भोजन के कारण पेट में एसिड कम बनता है।
•    दो लौंग लेकर उन्‍हें जीभ पर रखें और चूसें। इसके रस के मुंह की लार के साथ मिलकर पेट में जाने पर एसिडिटी से आराम मिलता है।
जी  मचलाना और उल्‍टी
ये समस्‍या अपने आप में कोई रोग नहीं है बल्कि किसी रोग के लक्षण के रूप में जी मचली और उल्‍टी की शिकायत होती है। ज्‍यादा चलने, तनाव, पेट खराब होने, ओवरईटिंग या संक्रमण की वजह से जी मचली एवं उल्‍टी हो सकती है।
•    एक चम्‍मच सूखे पुदीने की पत्तियां लेकर उन्‍हें 5 से 10 मिनट तक एक कप पानी में उबालें। ठंडा होने पर इस पानी को पी लें।
•    चावल का पानी पीने से भी उल्‍टी और जी मचली से राहत मिलती है।
•    एक चम्‍मच अदरक के रस में एक चम्‍मच नींबू का रस मिलाकर पीएं। दिन में 2 से 3 बार इस रस को पीने से आराम मिलता है।


पेट में अल्‍सर


•    पेट की परत में जख्‍म हो जाने पर अल्‍सर की समस्‍या पैदा होती है। इसे गैस्ट्रिक अल्‍सर भी कहते हैं।
•    पेट में अल्‍सर के घरेलू उपाय
•    पत्तागोभी और गाजर का रस मिलाकर भोजन और सोने से पहले आधा कप पीएं।
•    पेट में अल्‍सर से राहत पाने के लिए दिन में 3 बार केला खाएं।
•    रोज़ सुबह खाली पेट दो चम्‍मच शहद खाएं।


पेट खराब होना/दस्‍त


•    दही में मौजूद बैक्‍टीरिया पाचन तंत्र में सुधार लाते हैं। दस्‍त होने पर दिन में 2 से 3 बार दही खाएं।
•    सेब में अधिक मात्रा में पेक्टिन होता है जिससे फाइबर मिलता है। पेट से जुड़ी सभी प्रकार की बीमारियों को दूर करने के लिए रोज़ 2 सेब खाएं।
•    एक गिलास गर्म पानी में एक आधा चम्‍मच हल्‍दी का पाउडर डालकर मिक्‍स करें। इस पानी को दिन में 2 से 3 बार पीएं।
•    दस्‍त होने पर अत्‍यधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए जिससे शरीर में पानी की कमी न हो।


कब्‍ज


•    अनुचित खानपान, कम पानी पीने, शौच न जाने, बवासीर या पेट की मांसपेशियों के कमजोर होने के कारण कब्‍ज की समस्‍या होती है।
•    दो तीन बादाम के साथ सूखे अंजीर लें और पानी में कुछ घंटों के लिए भिगोकर रख दें। बादाम को छिलकर अंजीर के साथ पीस लें और इसे रात के समय एक चम्‍मच शहद के साथ लें।
•    दिन में तीन बार दो चम्‍मच शहद खाने से भी कब्‍ज से राहत मिलती है।


पेट दर्द


•    पेट दर्द को दूर करने के लिए पानी में कुछ सौंफ के बीज डालकर उबालें। इसे ठंडा कर लें और फिर इसमें शहद मिलाकर पीएं।
•    खाना खाने के बाद सौंफ चबाने से भी पेट दर्द एवं पाचन ठीक रहता है।
•    एक गिलास गर्म पानी में एक चुटकी हींग डालें। इसे अच्‍छी तरह से मिलाएं और दिन में दो से तीन बार पीएं। इसमें सेंधा नमक भी मिला सकते हैं।
•    एक गिलास पानी में एक चम्‍मच बेकिंग सोडा, आधा चम्‍मच नमक और एक चम्‍मच नींबू का रस डालकर गर्म करें।
•    पेट दर्द होने पर गर्म पानी की बोतल या हीट पैड से सिकाई करें। इससे भी पेट दर्द से राहत मिलती है।


पेट से जुड़ी सभी समस्‍याओं को दूर करने में Gas-o-fast भी बहुत असरकारी है। एसिडिटी, पेट दर्द, कब्‍ज, सीने में जलन आदि के इलाज के लिए Gas-o-fast ले सकते हैं।

 




Your Thoughts