Blog
Home > Blogs > एसिडिटी से हैं परेशान तो जल्दी आराम दिलाएंगे ये छोटे-छोटे काम-

एसिडिटी से हैं परेशान तो जल्दी आराम दिलाएंगे ये छोटे-छोटे काम-

एसिडिटी से हैं परेशान तो जल्दी आराम दिलाएंगे ये छोटे-छोटे काम-

May 14, 2019

कभी-न-कभी हम सभी ने अपने पसंदीदा खाने का आनंद लेते-लेते आवश्यकता से अधिक जरूर खाया होगा: फिर चाहे वो जी-ललचाने वाली मिठाई और पेस्ट्री हो, चटाकेदार सड़क किनारे का खाना या पारंपरिक घर का खाना या कुछ भी हो। जब हम ऐसा करते हैं तो हम चटोरे किसी कारण से ही कहलाए जाते हैं। इस अति से एसिडिटी होती है, जिसे आम तौर पर 'सीने में जलन' कहा जाता है। मगर 'सीने में जलन' का दिल से कुछ लेने-देना नहीं होता, और इसका सरोकार पेट से होता है जिसे हमने क्षमता से अधिक भर लिया है। जब खाने के बाद हमें फूला-फूला लगे, हिचकियाँ आएँ या छाती के निचले हिस्से में जलन महसूस हो तब हमें पता होता है कि हमें एसिडिटी है। अच्छी खबर ये है कि यह बहुत आम स्थिति है जिसका इलाज कुछ घरेलू नुस्खों से आसानी से किया जा सकता है।


एसिडिटी से बचाव


खाने के कीटाणुओं को मारने के लिए पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड होता है। पेट के अंदर की परत इससे निपटने के लिए बनी है: जिसके सेल औसतन हर पाँच दिन में बदलते रहते हैं। हालाँकि, खाने की पाइप (खाना नली) के पास इस तरह की सुरक्षा नहीं होती। जब एसिड मिला खाना लौट कर खाना नली में वापिस आता है तो वो उसे उत्तेजित करता है, जिससे गले और सीने में गर्माहट या जलन का एहसास होता है।

इसके अलग-अलग कारण होते हैं – पेट द्वारा अत्यधिक एसिड बनाना, तला/मसालेदार/नॉन-वेज खाने का सेवन, सीमा से अधिक खाना, भोजन के तुरंत बाद लेट जाना या यहाँ तक कि तनाव भी।


अपने-आप में एसिडिटी हानिकारक नहीं होती। शोध के अनुसार, दुनियाभर में दस में से एक व्यस्क प्रतिदिन इसका अनुभव करता है। हालाँकि, लंबे समय तक इसका सामना करना भी संभव नहीं और इससे पेट के अलसर या कैंसर भी हो सकता है। सौभाग्य से, एसिडिटी का समाधान अपने हाथ में है। ये रहीं एसिडिटी के कुछ घरेलु नुस्ख़े


•    अपने खाने की मात्रा को थोड़े तक सीमित रखें: खाना नली और पेट के जोड़ पर स्फिंगक्टर मसल होता है जो बोतल के ढ़क्कन की तरह काम करता है। खाने को जाने देने या जब हमें उल्टी करनी हो उसके अलावा ये पेट के अंदर की सामग्री को ऊपर आने से रोकता है। अधिक मात्रा में खाना खाने से इसकी प्रभावशीलता कम होती है और पेट का एसिड ऊपर की ओर आ सकता है।


•    वजन कम करें: पेट पर वजन पेट और स्फिंकटर मसल पर अत्यधिक दबाब डालता है। यह उसके सामान्य रूप से काम करने में बाधा डाल सकता है।


•    मसालेदार, तैलीय और ज्यादा मीठे खानों को छोड़ें: कुछ खाने आपको एसिडिटी करने की अधिक संभावना रखते हैं, जैसे कि कार्बोनेटेड ड्रिंक (सोड़ा), कैफ़ीन वाले ड्रिंक, उच्च-फैट वाले डेरी उत्पाद, फल जिनमें प्राकृतिक रूप से एसिड की मात्रा उच्च होती है जैसे कि नींबू, टमाटर, संतरे और अनानास, प्याज एवं लहसुन, चॉकलेट और व्हाइट ब्रेड उत्पाद।


•    सोने की आदतें बदलें: सोने से कम-से-कम तीन घंटे पहले खाना खाएँ।


•    अच्छी मात्र में फ़ाइबर खाएँ: फ़ाइबर-समृद्ध खाना पाचन औरे आँतों में सरलता से खाना गुजरने के लिए अनिवार्य होता है। हर भोजन में ताजा पत्तेदार सब्जियों वाले सलाद शामिल करें।


•    धुम्रपान और शराब छोड़ें


•    अत्यधिक मात्रा में कॉफ़ी से बचें


•    हर भोजन के बाद सौंफ खाएँ। या, आप पीसी हुई सौंफ को उबाल कर भोजन के बाद उसका चाय की चुस्कियों की तरह आनद उठाएँ।


•    पाचन बढ़ाने वाले और शरीर के पीएच को संतुलन देने वाले खाद्य जैसे कि सेब, पपीता और केले अपने आहार शामिल करें। इनका थोड़ी मात्रा में सेवन हर भोजन के साथ किया जा सकता है। इन खाद्यों का पेट की लाइनिंग पर शांतिदायक असर होता है और ये प्राकृतिक एंटासिड भी होते हैं।


•    पाचन के लिए हर्बस जैसे कि अदरक और पुदीना चमत्कारी होते हैं और एसिडिटी के कारण आने वाली उबकाई को भी संभालते हैं।


•    नॉन-वेज खाने के शौक़ीन, कम चर्बी वाले मीट जैसे कि चिकन और मछली को चुन सकते हैं। इन्हें बिना या बहुत कम तेल के जैसे कि ग्रिल, बेक, पानी में उबाल या गर्म तापमान में पकाना चाहिए।


•    रिफ़ाइंड ऑयल की जगह ऑलिव ऑयल, सनफ्लावर ऑयल या टिल के तेल का इस्तेमाल करें।


•    अपने पेट को थोड़ा आराम लेने का समय दें। सप्ताह में एक या आधे दिन का उपवास रखने के बारे में सोचें। ये आपके पेट को आराम करने और खुद को हील होने का मौका देगा।
ये जाँचे-परखे एसिडिटी के घरेलू नुसखे, हर बार तुरंत और असरदार परिणाम देते हैं। एसिडिटी से बस तुरंत राहत के लिए गैसोफास्ट  लें जो एक प्राकृतिक एंटासिड है जिससे आपको 5 मिनट से भी कम समय में राहत मिलेगी।

 




Your Thoughts