Blog
Home > Blogs > एसिडिटी से तुरंत छुटकारा दिलाएंगे ये 7 फ्री के नुस्‍खे

एसिडिटी से तुरंत छुटकारा दिलाएंगे ये 7 फ्री के नुस्‍खे

एसिडिटी से तुरंत छुटकारा दिलाएंगे ये 7 फ्री के नुस्‍खे

July 11, 2019

हर व्‍यक्‍ति अपने जीवन में कभी ना कभी एसिडिटी से परेशान होता ही है। आज एसिडिटी बच्‍चों और वयस्‍कों में होने वाली आम समस्‍या बन गई है। खानपान से संबंधित गलत आदतों की वजह से हर उम्र के लोगों को एसिडिटी परेशान कर रही है। एसिडिटी की दवा लेने से बेहतर है कि आप घरेलू नुस्‍खों से इसका इलाज करें। ये घरेलू नुस्‍खे पेट में बनने वाले अत्‍यधिक एसिड को खत्‍म करते हैं और एसिडिटी के लक्षणों से राहत दिलाते हैं।


कई बार एसिडिटी दूर करने की दवाएं लेने पर भी इस समस्‍या से निजात नहीं मिल पाती है। एसिडिटी से परेशान व्‍यक्‍ति को समझ ही नहीं आता कि उसे इस दिक्‍कत से छुटकारा कैसे मिलेगा। इस चक्‍कर में दवाओं पर बहुत पैसे भी खर्च हो जाते हैं। 


अगर आप भी एसिडिटी से परेशान हैं और बिना पैसे खर्च किए ही इससे छुटकारा पाना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें। 


आइए जानते हैं एसिडिटी के प्राकृतिक घरेलू नुस्‍खे क्‍या हैं: 


पानी पीएं 


एसिडिटी से निजात पाने का सबसे सरल और आसान उपाय है सुबह रोज़ उठकर खाली पेट दो गिलास पानी पीना। इससे पेट में एसिड का स्‍तर बना रहता है और पाचन में भी सुधार आता है। सादे पानी के अलावा नारियल पानी भी एसिडिटी और सीने में जलन को दूर करने में कारगर होता है।


अगर आप एसिड रिफलक्‍स से परेशान हैं तो नारियल पानी पीने से आपको राहत मिल सकती है। इसमें पोटाशियम जैसे इलेक्‍ट्रोलाइट्स होते हैं। ये शरीर में पीएच लेवल के संतुलन को बढ़ावा देता है। नारियल पानी एसिड रिफलक्‍स के लक्षणों को भी नियंत्रित कर सकता है। 


तुलसी और पुदीने की पत्तियां 


घर में मौजूद चीजों से आप फ्री में ही एसिडिटी का इलाज कर सकते हैं। तुलसी गैस्ट्रिक एसिड के प्रभाव को कम कर अत्‍यधिक गैस के उत्‍पादन को रोकती है। रोज़ 2 से 3 तुलसी की पत्तियां चबाने से एसिडिटी की परेशानी दूर होती है। 


पुदीने का रस पेट में एसिड रिफलक्‍स को शांत करने में मदद करता है। पुदीने में प्राकृतिक शीतल गुण होते हैं। पुदीने की कुछ पत्तियों को पानी में उबालें और फिर उसे ठंडा करके पीएं। 


एलोवेरा 


एसिडिटी के इलाज में एलोवेरा के पौधे को भी काफी असरकारी घरेलू उपचार माना जाता है। इस पौधे में सूजन-रोधी गुण होते हैं जो कि पेट में सूजन को कम करने और पाचन तंत्र को ठंडक प्रदान करता है। 
एलोवेरा जूस और जैल से सीने में जलन की शिकायत को भी दूर किया जा सकता है। खाने से पहले एलोवेरा या इससे बनी चीज़ों का सेवन करना पाचन को बढ़ाता है। इससे भोजन आसानी से पच जाता है। 


सौंफ 


भारत में आमतौर पर खाना खाने के बाद सौंफ खाई जाती है जिससे मुंह से बदबू ना आए। क्‍या आपने कभी सोचा है कि ये सौंफ के बीज एसिडिटी से पेट को ठंडक देने और पेट की ऐंठन को दूर करने में लाभकारी है।


सौंफ में प्रचुर मात्रा में मिनरल्‍स, विटामिंस और फाइबर्स होते हैं जो पाचन प्रक्रिया में मदद करते हैं। पानी में थोड़ी-सी सौंफ को भिगो दें और रोज़ इस पानी का सेवन करें। इससे एसिडिटी के साथ-साथ पेट से जुड़ी कई बीमारियां दूर हो जाएंगीं। 


लहसुन 


आपको जानकर हैरानी होगी कि लहसुन भी एसिडिटी को दूर करने में असरकारी है। अपच और एसि‍ड रिफलक्‍स से राहत दिलाने में लहसुन भी बेहतरीन घरेलू नुस्‍खा है। एंटीऑक्‍सीडेंट से प्रचुर लहसुन एसिड रिफलक्‍स पर एंटीडोट की तरह काम करता है। खाने में लहसुन का इस्‍तेमाल करने से पेट स्‍वस्‍थ रहता है और एसिडिटी से बचाव होता है। आप लहसुन को कच्‍चा भी खा सकते हैं। एसिडिटी को दूर भगाने के लिए खाने के बाद लहसुन को मसलकर लौंग के साथ मिक्‍स करें या 3 से 4 बूंद लहसुन के तेल में 1 और आधा कप वेजिटेबल ऑयल को पेट पर मसलें।


बादाम 


बादाम भी एसिडिटी के लक्षणों से राह‍त दिलाने वाला एक अन्‍य असरदार घरेलू नुस्‍खा है। एसिडिटी को दूर करने के लिए बादाम को पानी में भिगोकर ना खाएं बल्कि कच्‍चे बादाम खाएं। कच्‍चे बादाम प्राकृतिक तेलों से प्रचुर होजे हैं और इनमें फाइबर भी बहुत होता है जो कि खाने को ठीक तरह से पचाने में मदद करते हैं। 


नीबू पानी 


एसिडिटी के इलाज और पाचन में सुधार के लिए नींबू पानी भी असरकारी होता है। ये पेट में मौजूद एसिड के प्रभाव को खत्‍म करता है। खाने से पहले नींबू पानी पीने से भोजन अच्‍छी तरह से पच जाता है। बेहतर परिणाम के लिए नींबू पानी में काला नमक और जीरा पाउडर भी मिला सकते हैं। 


इन आसान घरेलू चीज़ों से आप घर बैठे ही एसिडिटी और पेट से जुड़ी अनेक समस्‍याओं से छुटकारा पा सकते हैं। अगर आपको कभी-भी या कुछ भी खाने पर एसिडिटी हो जाती है तो अपने साथ Gas-o-fast रखें। Gas-o-fast मिनटों में एसिडिटी को दूर भगा सकती है। इसे आप आसानी से अपने बैग में भी रख सकते हैं और जब भी एसिडिटी महसूस हो तो इसका सेवन कर सकते हैं।
 




Your Thoughts