Blog
Home > Blogs > रहती है एसिडिटी की शिकायत, तो इन 7 चीजों से मिलेगी राहत

रहती है एसिडिटी की शिकायत, तो इन 7 चीजों से मिलेगी राहत

रहती है एसिडिटी की शिकायत, तो इन 7 चीजों से मिलेगी राहत

July 01, 2019

एसिड के पेट से भोजन नली में वापिस जाने पर एसिडिटी होने लगती है। इसकी वजह से कुछ परेशानियां जैसे कि सीने में जलन आदि हो सकती है। 


ऐसा होने का एक कारण यह भी है कि एसिड बनने पर भोजन नली का निचला हिस्‍सा (एसोफिजिअल स्फिंक्‍टर) कमजोर या क्षतिग्रस्‍त हो जाता है। सामान्‍य तौर पर एसोफिजिअल स्फिंक्‍टर भोजन को पेट से ग्रास नली में जाने से रोकता है। 


आप जो कुछ भी खाते हैं वो पेट में बनने वाले एसि‍ड की मात्रा को प्रभावित करता है। उचित भोजन एवं सुतलित आहार से एसिडिटी को गंभीर रूप लेने से रोका जा सकता है। 


कुछ चीजें कर सकती हैं एसिडिटी को दूर 


पेट के एसिड के भोजन नली को छूने पर पेट में दर्द उठने लगता है। इस स्थिति को एसिडिटी कहते हैं। अगर आपके पेट में बहुत ज्‍यादा एसिड या अम्‍ल बन रहा है तो कुछ विशेष खाद्य पदार्थों को अपनी डाइट में शामिल कर आप इस समस्‍या से छुटकारा पा सकते हैं। 


तो चलिए जानते हैं उन 7 फूड्स के बारे में जिन्‍हें अपनी डाइट में शामिल कर आप एसिडिटी से राहत पा सकते हैं। 


सब्जियां 


सब्जियों में प्राकृतिक रूप से फैट और शुगर की मात्रा कम होती है। ये पेट के एसिड को कम करने में मदद करती हैं। अपने आहार में हरे बींस, ब्रोकली, पत्तेदार सब्जियों, आलू और खीरे को शामिल करें। 


अदरक 


अदरक में प्राकृतिक सूजन-रोधी गुण पाए जाते हैं और सीने में जलन एवं जठरांत्र से संबंधित समस्‍याओं को दूर करने में अदरक बहुत असरकारी है। अपने खाने में अदरक का इस्‍तेमाल करें या एसिडिटी से राहत पाने के लिए अदरक की चाय या अदरक वाले फ्लेवर की ग्रीन टी भी पी सकते हैं। 


एलोवेरा 


एलोवेरा में प्राकृतिक औषधीय गुण होते हैं और एसिडिटी को ठीक करने में मदद करता है। एलोवेरा का जूस पी सकते हैं या इसकी पत्तियों की सब्‍जी भी बनाई जाती है। एलोवेरा से पेट ही नहीं बल्कि त्‍वचा भी स्‍वस्‍थ रहती है। 


केला और तरबूज


एसिडिटी से परेशान लोगों के लिए केला बहुत फायदेमंद होता है। स्‍नैक या नाश्‍ते में आप केला खा सकते हैं। इसमें पीएच 5.6 होता है। तरबूज की बात करें तो इसमें पीएच 6.1 होता है। तरबूज की तासीर ठंडी होती है और इसमें पानी भी अधिक मात्रा में मौजूद होता है। इसलिए एसिडिटी को शांत करने के लिए तरबूज खाना फायदेमंद रहता है। 


अंडे का सफेद भाग 


अंडे का सफेद भाग भी बहुत हैल्‍दी होता है। हालांकि, अंडे का पीला हिस्‍सा नहीं खाना चाहिए क्‍योंकि इसमें वसा की मात्रा बहुत ज्‍यादा होती है जिसके कारण एसिडिटी हो सकती है। 


मीट और सीफूड 


चिकन, टर्की, मछली और सीफूड में वसा कम मात्रा में होता है। ये एसिडिटी के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं। इन्‍हें ग्रिल, बेक या उबालकर खा सकते हैं। एसिडिटी को रोकने के अलावा ये फूड्स शरीर को मजबूत भी बनाते हैं। 


ओट्स 


नाश्‍ते में ओटमील खाना लाभदायक रहता है। एसिडिटी से परेशान लोग नाश्‍ते के अलावा दिनभर में किसी भी समय स्‍नैक के रूप में ओट्स खा सकते हैं। इसलिए अगर आप एसिडटी से परेशान हैं तो अपनी डाइट में ओट्स को शामिल करें। 


इन चीजों से रहें दूर 


सिट्रस फलों और सब्जियों से एसिडिटी पैदा होती है। अगर आपको लगातार एसिडिटी की शिकायत रहती है तो अपनी डाइट में सिट्रस फलों को न लें। ऐसी चीजों से भी दूर रहें जिनमें एसिड ज्‍यादा हो। संतरा, चकोतरा, नींबू, अन्‍नानास, टमाटर और सालसा खाने से बचें। 


चॉकलेट में मेथलेक्‍सेंथिन नामक तत्‍व मौजूद होता है। ये एसोफिजिअल स्फिंक्‍टर की नरम मांसपेशियों को आराम पहुंचाकर एसिड का उत्‍पादन बढ़ा देती है। इस वजह से एसिडटी से ग्रस्‍त व्‍यक्‍ति को चॉकलेट नहीं खानी चाहिए। 


मसालेदार और चटपटी चीजों जैसे कि प्‍याज एवं लहसुन का सेवन करने से बचें क्‍योंकि इनके कारण पेट में एसिड बढ़ सकता है। अत्‍यधिक मात्रा में प्‍याज या लहसुन खाने से एसिडिटी होने की संभावना बढ़ जाती है। 


एसिडिटी से परेशान व्‍यक्‍ति को कॉफी या कैफीनयुक्‍त चीज़ों से भी दूर रहना चाहिए। 


एसिडिटी कोई बड़ी बीमारी नहीं है लेकिन अगर इसका सही समय पर इलाज न किया जाए या इसे नज़रअंदाज कर दिया जाए तो इसकी वजह से कोई बड़ी बीमारी हो सकती है। इसलिए एसिडिटी से बचने या इसे ठीक करने के लिए डाइट पर ध्‍यान दें और योग एवं व्‍यायाम करें। 


अगर आपको अकसर एसिडिटी की शिकायत रहती है तो इसे दूर करने का एक आसान तरीका भी है। Gas-o-fast से मिनटों में एसिडिटी से राहत पा सकते हैं। तो अगली बार जब भी आपको एसिडिटी की परेशानी हो Gas-o-fast का सेवन करें। 
 




Your Thoughts