Blog
Home > Blogs > पेट में है जलन की समस्या, अपनाएं ये छह घरेलू नुस्खे

पेट में है जलन की समस्या, अपनाएं ये छह घरेलू नुस्खे

पेट में है जलन की समस्या, अपनाएं ये छह घरेलू नुस्खे

November 22, 2019

पेट में जलन होना सामान्‍य बात है। अक्‍सर अपच की वजह से पेट में जलन होती है। किसी स्थिति जैसे कि कुछ खाद्य पदार्थों के प्रति असंवेदनशील होने के एक लक्षण के रूप में पेट में जलन महसूस हो सकती है। डॉक्‍टर की सलाह या सीधे केमिस्‍ट से दवा लेकर भी अपच को रोका या इसका इलाज किया जा सकता है। इसके अलावा आप चाहें तो घरेलू नुस्‍खों से भी पेट में जलन की प्रॉब्‍लम को ठीक कर सकते हैं।

अगर आपको रोज़ाना ही पेट में जलन महसूस होती है और अपच जैसे लक्षण महसूस हो रहे हैं तो आप घरेलू नुस्‍खों की मदद से अपनी इस समस्‍या से छुटकारा पा सकते हैं लेकिन उससे पहले आपको ये जान लेना चाहिए कि आपको बार-बार पेट में जलन क्‍यों होती है।

पेट में जलन के कारण

कुछ लोगों को किसी विशेष तरह के फूड से एलर्जी होती है जिसकी वजह से उनमें जीईआरडी के लक्षण महसूस होने लगते हैं। इनमें पेट में जलन भी शामिल है। लैक्‍टोस या ग्‍लूटेन इंटोलरेंस या शराब की वजह से ऐसा हो सकता है। शराब पाचन मार्ग, आंतों और पेट को खराब करती है जिससे पेट में जलन और अन्‍य समस्‍याएं पैदा होती हैं।

इसके अलावा अपच, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम, पेट में अल्‍सर या संक्रमण या किसी दवा के रिएक्‍शन की वजह से पेट में जलन हो सकती है।

आइए अब जान लेते हैं कि कैसे घरेलू नुस्‍खों की मदद से पेट में जलन की समस्‍या को दूर किया जा सकता है।

एप्‍पल सिडर विनेगर

ये पेट में एसिड के उत्‍पादन को नियंत्रित कर उसे संतुलन में लाता है। 2 से 3 चम्‍मच एप्‍पल सिडर विनेगर को एक चम्‍मच शहद में डालकर एक गिलास पानी में मिलाएं। जब भी आपको एसिड रिफलक्‍स या पेट में जलन महसूस हो तो इस मिश्रण को पी लें। अगर एक गिलास पीने से आराम नहीं मिलता है तो कुछ घंटे बाद दोबारा इस मिश्रण को बनाकर पीएं।

नींबू का रस

गुनगुने पानी के साथ गर्म करने पर नींबू काफी हद तक एसिड रिफलक्‍स के संकेत से राहत दिला सकता है। ये पेट में एसिड की मात्रा को संतुलित करता है जिससे एसिड रिफलक्‍स कम होता है। एक चम्‍मच ताजा नींबू के रस को एक गिलास पानी में मिलाकर खाली पेट पिएं। रात को गरिष्‍ठ भोजन किया है तो एसिड रिफलक्‍स से बचने के लिए सुबह खाली पेट नींबू पानी पी लें। अगर आपको सीने में जलन रहती है तो खाने से 10 से 15 मिनट पहले ये पानी पीएं। ये एसिड रिफलक्‍स का कारगर उपाय है।

एलोवेरा जूस

एलोवेरा जूस में एंथ्राक्‍यूनोंस होता है जिसके रेचक यानि दस्‍त लाने वाले प्रभाव होते हैं। ये न सिर्फ आंतों में पानी की मात्रा को बढ़ाता है बल्कि इससे पेशाब ज्‍यादा आता है और कब्‍ज भी नहीं रहती है। खाने से पहले आधा कप एलोवेरा जूस पीएं।

हर्बल टी

हर्बल टी एसिड के प्रभाव को खत्‍म करने के लिए जानी जाती है। ये पेट को राहत देती है और इसके सूजन एवं जलन रोधी गुण भोजन नली में जलन के एहसास को कम करते हैं। एक ग्रीन टी या मुलेठी की चाय के बैग को एक कप गर्म पानी में मिलाएं। आप चाहें तो इसमें शहद भी मिला सकते हैं। कुछ मिनट के लिए टी बैग को कप में ही रहने दें और फिर टी बैग को निकालकर चाय पी लें। पेट की जलन को दूर करने के लिए आप दिन में एक या दो बार इस चाय का सेवन कर सकते हैं।

योगर्ट

योगर्ट भोजन नली और पेट की लाइनिंग को आराम एवं ठंडक मिलती है। इससे पेट की जलन होती है क्‍योंकि योगर्ट में लैक्‍टोबैसिलस कल्‍चर्स और विटामिन बी के संश्‍लेषण होते हैं। एक कप प्‍लेन योगर्ट खाने से भी पेट की जलन दूर होती है। योगर्ट ठंडी होनी चाहिए। जब भी पेट या सीने में जलन महसूस हो तो एक कप ठंडी प्‍लेन योगर्ट खा लें।

बेकिंग सोडा

बेकिंग सोडा एल्‍केलाइन होता है और इसमें पीएच का स्‍तर 7 से ज्‍यादा होता है इसलिए ये सीने की जलन का इलाज करने में कारगर है। बेकिंग सोडा पेट के एसिड को खत्‍म करता है और जलन से छुटकारा दिलाता है। 1 चम्‍मच बेकिंग सोडा लें और उसे एक गिलास पानी में घोलकर पी लें। इसका स्‍वाद बढ़ाने के लिए आप इसमें शहद या नींबू का रस भी मिला सकते हैं। ये घरेलू नुस्‍खा मिनटों में ही पेट की जलन से राहत दिलाता है। एक हफ्ते से ज्‍यादा इस नुस्‍खे का इस्‍तेमाल न करें क्‍योंकि इसमें नमक बहुत ज्‍यादा होता है जिससे सूजन या जी मितली हो सकती है।

अगर आपको रोज़ाना ही एसिडिटी, पेट में जलन, अपच, खट्टी डकारे आने जैसी पाचन से जुड़ी समस्‍याएं रहती हैं तो इसके तुरंत इलाज के लिए आप Gas-o-fast भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं। ये मिनटों में पेट से जुड़ी परेशानियों को दूर करती है और इसका इस्‍तेमाल आप कहीं भी कभी भी कर सकते हैं।




Your Thoughts