Blog
Home > Blogs > प्राकृतिक उपचार के साथ पेट की एसिडिटी को कैसे ठीक-

प्राकृतिक उपचार के साथ पेट की एसिडिटी को कैसे ठीक-

प्राकृतिक उपचार के साथ पेट की एसिडिटी को कैसे ठीक-

May 14, 2019

क्या आप बार-बार पेट में दर्द, थकी हुई सांस और गैस की समस्या का सामना कर रहे हैं? क्या आप अक्सर सुबह-सुबह अपने सीने से नीचे चलती हुई एक गंभीर जलन महसूस करते हैं? यदि हाँ, तो आप एसिड रिफ्लक्स के शिकार हो सकते हैं, जिसे आमतौर पर दिल में जलन(हार्ट्बर्न) के रूप में जाना जाता है।

भोजन के बीच लंबे अंतराल, कॉफी या चाय के अत्‍यधिक उपभोग, अक्‍सर धु्म्रपान करने या एल्‍कोहल के सेवन के कारण एसिडिटी हो सकती है। इन खराब जीवनशैली की आदतों से हमारे गैस्ट्रिक ग्रंथियों में पेट के रस के स्राव में वृद्धि होती है, जो उपर उठता है और एसोफगेअल मार्ग को पार कर जाता है, जिससे हार्ट्बर्न होता है।

आम तौर पर, हम एसिड रिफ्लक्स के खिलाफ तुरंत राहत पाने के लिए एंटासिड जैसी दवाओं का सहारा लेते हैं। हालांकि, यह जानकर हैरानी होती है कि हमारे घर में कुछ खास इलाज उपलब्ध हैं। आइए कुछ ऐसे घरेलू उपचारों पर ध्यान दें जो एसिडिटी और हार्टबर्न में मदद करते हैं।

जीरे के बीज
हमें बस इतना करना है कि जीरा के बीज को मटर के दाने के बराबर मात्रा को पीस कर एक गिलास पानी में घोल लें और इसे पी लें। हम एक कप पानी में एक छोटा चम्मच जीरा भी डाल सकते हैं और इसे हर भोजन के बाद पी सकते हैं। जीरा पेट दर्द से राहत देता है, पाचन में मदद करता है और एक बेहतरीन एसिड न्यूट्रलाइज़र के रूप में काम करता है।

नारियल पानी
नारियल पानी फाइबर से भरपूर होता है और एसिडिटी को दोबारा होने से रोककर पाचन में मदद करता है। जब हम नारियल पानी पीते हैं तो हमारे शरीर का अम्लीय स्तर क्षारीय में बदल जाता है। यह कफ को भी पेट में स्रावित करता है जो अत्यधिक एसिड बनने के हानिकारक दुष्प्रभावों के खिलाफ हमारे पेट को बढ़ाता है।


गुड़
गुड़ में मौजूद उच्च मैग्नीशियम सामग्री आंतों की शक्ति को बढ़ाती है। यह पाचन तंत्र को अधिक क्षारीय बनाता है, इस प्रकार एसिडिटी और हार्टबर्न के प्रभाव को कम करता है। शरीर के तापमान को सामान्य बनाए रखने के लिए जाना जाता है, गुड़ एसिडिटी का बेहतरीन उपचार है। विशेषज्ञ गर्मियों के दौरान बर्फ के पानी में गुड़ शरबत-गुड़ को पीने की भी सलाह देते हैं। कोई आश्चर्य नहीं है क्‍योंकि हम अपने बड़ों को गुड़ के साथ भोजन समाप्‍त करते हुए देखते हुए बड़े हुए हैं।

पपीता
ताजा कटे हुए पपीते सहित आहार पर ध्यान देने से पाचन में सुधार होता है और हानिकारक विषाक्त पदार्थों से पेट साफ करता है।

आमला
हर दिन एक चम्मच आमला पाउडर का सेवन करने से इन सभी असहज एसिड अटैक को रोका जा सकेगा। आयुर्वेद में, आंवला को शरीर के लिए सात्त्विक भोजन शांत करने वाले घटक के रूप में स्वीकार किया गया है। इसमें विटामिन सी की उच्च मात्रा भी होती है जो घायल अन्नप्रणाली और पेट की दीवार को भरने में सहायता करता है।

पुदीने की पत्तियां
पुदीने हमारे पेट में एसिड की मात्रा को कम करता है और पाचन को बेहतर करता और बढ़ाता है। आप कुछ पत्तों को उबाल सकते हैं और ठंडा होने के बाद इसका पानी पी सकते हैं या अपनी हार्टबर्न को शांत करने के लिए कुछ पत्तियों को काट सकते हैं और इसे नियंत्रण में रख सकते हैं। उनके स्वस्थ कारक पेट और आंत के स्वास्थ्य को बढ़ाते हैं और अपच को रोकते हैं। हार्टबर्न की जलन और दर्द को कम करता है, पुदीने की पत्तियां को कुदरती कूलेंट के रूप में जाना जाता है।


सौंफ के बीज
सौंफ़ के बीज में मौजूद एनेथोल के रूप में जाना जाने वाला एक यौगिक होता है जो पेट के लिए एक सुखदायक एजेंट के रूप में काम करता है, पेट फूलने और ऐंठन को रोकता है। सौंफ के बीज पेट की पर्त को ठंडा करते हैं और कब्ज को दूर करता है इसके एंटी-अल्‍सर गुणों को धन्‍यवाद। विटामिन्‍स, मिनरल्‍स और डाइटरी फाइबर की अधिकता से भरा हुआ वे बेहतर पाचन की अनुमति भी देते हैं। बहुत सारी गर्भवती महिलाएं को उनकी गर्भावस्था के दौरान सौंफ के बीज के अपच के उपचार को बताया जाता हैं। वह स्तनपान कराने वाली माताओं को भी फायदा देता है और नर्सिंग महिलाओं में स्तन के दूध का उत्पादन बढ़ाता है। कुछ सौंफ के बीजों चबाएं या कुछ समय के लिए पानी में भिगोकर रखें और इसे पीने से तुरंत हार्टबर्न से राहत मिलेगी।

केला
केले पोटैशियम से भरपूर होते हैं। वे पेट में बलगम के उत्पादन को बढ़ाने में मदद करते हैं जो बदले में अतिरिक्त एसिड उत्पादन के हानिकारक प्रभावों से लड़ता है। उनकी उच्च फाइबर सामग्री हमारे पाचन तंत्र को बेहतर करती है और पेट के स्वास्थ्य को बनाए रखती है। दिन में एक पका हुआ केला एसिडिटी के खिलाफ एक जीवनरक्षक है।

अनानास का जूस
अनानास में एंजाइम ब्रोमेलैन होता है जो हमारे पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड के स्तर को नियंत्रित करता है और एसिड रिफ्लक्स को भी रोकता है। वे हार्टबर्न राहत के लिए एक प्राकृतिक उपचार हैं। एक रिच, मसालेदार भोजन के बाद एक गिलास अनानास का रस पीने से एसिडिटी के सभी लक्षण समाप्त हो जाते हैं। वे हार्टबर्न और हाइपरसिटी के खिलाफ एक साबित उपचार हैं।

बटरमिल्‍क/छाछ
छाछ में लैक्टिक एसिड पेट की परत को घेरता/निगलता है और हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स के सभी लक्षणों को बेअसर करता है। स्वाभाविक रूप से पाये जाने वाले प्रोबायोटिक होने के कारण, डॉक्टरों द्वारा व्यापक रूप से इसे दैनिक आधार पर प्रोबायोटिक पूरक(सप्‍लीमेंट) के रूप में उपयोग करने की सिफारिश की जाती है। प्रोबायोटिक्स में मौजूद अच्छे बैक्टीरिया गैस बनने और पेट फूलने को नष्‍ट करते हैं। वे पोषक तत्वों और खाद्य कणों का पूर्ण पाचन प्रदान करके, एसिडिटी की घटना की संभावनाओं को समाप्त करके हमारे गैस्ट्रोइन्टेस्टनल स्वास्थ्य को अच्छे आकार में रखते हैं, । यह एसिडिटी के लिए बहुत ही उपयोगी एंटीडोट है। मसालेदार भोजन के बाद, एक गिलास ठंडा छाछ तैयार करें और फायदों को बढ़ाने के लिए ऊपर से एक चुटकी काली मिर्च छिड़कें।

यदि आप हार्टबर्न के खिलाफ तुरंत राहत चाहते हैं, तो गैस-ओ-फास्ट को आजमाएं। गैस-ओ-फास्ट की गोलियां कुछ ही मिनटों में एसिडिटी से लड़ती हैं। इन गोलियों में पाचन एंजाइम होते हैं जो एसिडिटी और हार्टबर्न से तुरंत राहत प्रदान करते हैं। विभिन्न फ्‍लेवर्स से चुनें और एसिडिटी की समस्याओं को जल्दी से अलविदा कहें!

 




Your Thoughts